Ahmad Faraz Shayari in Hindi

Ahmad Faraz Shayari in Hindi

Best Collection of Ahmad Faraz Shayari in Hindi, 2 line Ahmad Faraz Shayari, Heart Broken Ahmad Faraz Shayari in Hindi. Ahmad Faraz real name was Syed Ahmad Shah and he used “Faraz’ as his pen name. During his progressive years as a poet, he considered Faiz Ahmad Faiz as his role model. Besides being a poet, Ahmad Faraz was also a lecturer. Ahmad Faraz Shayari has been translated into languages like English, Spanish, Russian and French. Ahmad Faraz Is One Of The Best Poets Pakistan Has Ever Seen. We Bring You All TheAhmad Faraz Poetry He Has Written, Here At Shayari7. Best Urdu poems by Ahmad Faraz. Collection of Ahmad Faraz poems and Ghazals on Poetry on the page. Read love, sad romantic poems by the best Urdu poet Ahmad Faraz. Two lines Hindi Shayari collection of Ahmad Faraz to various topic like Romantic, short emotional, heart touching sad Shayari. Faraz SMS Shayari is full of love, sad and nice Shayari. no doubt Faraz one of the legend poets in modern Urdu poetry. We have latest/new Collection Of Ahmad Faraz Shayari in Hindi.

ahmad faraz shayari collection

अब और क्या किसी से मरासिम बांधे हम,

ये भी बहुत है तुझ को अगर भूल जाएँ हम..!!

********************************************************

आँख से दूर ना हो दिल से उतर जायेगा,

वख्त का क्या है गुजरता है गुजर जायेगा..!!

********************************************************

उम्र भर कौन निभाता है ताल्लुक इतना,

ए मेरी जान के दुश्मन तुझे अल्लाह राखे..!!

********************************************************

जिंदगी से यही गिला है मुझे,

तू बहुत देर से मिला है मुझे..!!

********************************************************

वो बारिश में कोई सहारा ढूँढता है,

“फ़राज़”

ऐ बादल आज इतना बरस की मेरी बाँहों को वो सहारा बना ले..!!

********************************************************

मेरी ख़ुशी के लम्हे इस कदर मुख्तसिर हैं,

“फ़राज़”

गुज़र जाते हैं मेरे मुस्कराने से पहले..!!

********************************************************

इस तरह गौर से मत देख मेरा हाथ ऐ,

“फ़राज़”

इन लकीरों में हसरतों के सिवा कुछ भी नहीं..!!

********************************************************

उसने मुझे छोड़ दिया तो क्या हुआ,

“फ़राज़”

मैंने भी तो छोड़ा था सारा ज़माना उसके लिए..!!

********************************************************

कौन देता है उम्र भर का सहारा,

“फ़राज़”

लोग तो जनाज़े में भी कंधे बदलते रहते हैं..!!

********************************************************

मैंने आज़ाद किया अपनी वफ़ाओं से तुझे,

बेवफ़ाई की सज़ा मुझको सुना दी जाए..!!

********************************************************

अब उसे रोज़ न सोचूँ तो बदन टूटता है,

“फ़राज़”

उमर गुजरी है उस की याद का नशा किये हुए..!!

********************************************************

तुम्हारी एक निगाह से कतल होते हैं लोग,

“फ़राज़”

एक नज़र हम को भी देख लो के तुम बिन ज़िन्दगी अच्छी नहीं लगती..!!

********************************************************

वो बात बात पे देता है परिंदों की मिसाल,

साफ़ साफ़ नहीं कहता मेरा शहर ही छोड़ दो..!!

********************************************************

नींद छीन रखी है उसकी यादों ने

गिला उसकी दूरी से करें या अपनी चाहत से..!!

********************************************************

Ahmad Faraz Shayari in Hindi

बच न सका ख़ुदा भी मुहब्बत के तकाज़ों से,

“फ़राज़”

एक महबूब की खातिर सारा जहाँ बना डाला..!!

********************************************************

मैंने आज़ाद किया अपनी वफ़ाओं से तुझे,

बेवफ़ाई की सज़ा मुझको सुना दी जाए..!!

********************************************************

मैंने माँगी थी उजाले की फ़क़त इक किरन,

“फ़राज़”

तुम से ये किसने कहा आग लगा दी जाए..!!

********************************************************

इतनी सी बात पे दिल की धड़कन रुक गई,

“फ़राज़”

एक पल जो तसव्वुर किया तेरे बिना जीने का..!!

********************************************************

इस तरह गौर से मत देख मेरा हाथ ऐ,

“फ़राज़”

इन लकीरों में हसरतों के सिवा कुछ भी नहीं..!!

********************************************************

उसने मुझे छोड़ दिया तो क्या हुआ,

“फ़राज़”

मैंने भी तो छोड़ा था सारा ज़माना उसके लिए..!!

********************************************************

ये मुमकिन नहीं की सब लोग ही बदल जाते हैं

कुछ हालात के सांचों में भी ढल जाते हैं..!!

********************************************************

तू भी तो आईने की तरह बेवफ़ा निकला

“फ़राज़”

जो सामने आया उसी का हो गया..!!

********************************************************

बच न सका ख़ुदा भी मुहब्बत के तकाज़ों से

“फ़राज़”

एक महबूब की खातिर सारा जहाँ बना डाला..!!

********************************************************

बर्बाद करने के और भी रास्ते थे

“फ़राज़”

न जाने उन्हें मुहब्बत का ही ख्याल क्यूं आया..!!

********************************************************

Ahmad Faraz Shayari

उस शख्स से बस इतना सा ताल्लुक़ है

“फ़राज़”

वो परेशां हो तो हमें नींद नहीं आती..!!

********************************************************

मैंने माँगी थी उजाले की फ़क़त इक किरन,

“फ़राज़”

तुम से ये किसने कहा आग लगा दी जाए..!!

*************************************************

इतनी सी बात पे दिल की धड़कन रुक गई,

“फ़राज़”

एक पल जो तसव्वुर किया तेरे बिना जीने का..!!

*************************************************

ये मुमकिन नहीं की सब लोग ही बदल जाते हैं,

कुछ हालात के सांचों में भी ढल जाते हैं..!!

*************************************************

वो रोज़ देखता है डूबे हुए सूरज को,

“फ़राज़”

काश मैं भी किसी शाम का मंज़र होता..!!

*************************************************

खाली हाथों को कभी गौर से देखा है,

“फ़राज़”

किस तरह लोग लकीरों से निकल जाते हैं..!!

*************************************************

चलता था कभी हाथ मेरा थाम के जिस पर,

करता है बहुत याद वो रास्ता उसे कहना..!!

*************************************************

उम्मीद वो रखे न किसी और से,

“फ़राज़”

हर शख्स मुहब्बत नहीं करता उसे कहना..!!

*************************************************

एक पल जो तुझे भूलने का सोचता हूँ,

“फ़राज़”

मेरी साँसें मेरी तकदीर से उलझ जाती हैं..!!

*************************************************

सवाब समझ कर वो दिल के टुकड़े करता है,

“फ़राज़”

गुनाह समझ कर हम उन से गिला नहीं करते..!!

*************************************************

Ahmad Faraz Shayari

दीवार क्या गिरी मेरे कच्चे मकान की,

“फ़राज़”

लोगों ने मेरे घर से रास्ते बना लिए..!!

*************************************************

कभी टूटा नहीं मेरे दिल से आपकी याद का तिलिस्म,

“फ़राज़”

गुफ़्तगू जिससे भी हो ख्याल आपका रहता है..!!

*************************************************

वो बारिश में कोई सहारा ढूँढता है,

“फ़राज़”

ऐ बादल आज इतना बरस की मेरी बाँहों को वो सहारा बना ले..!!

*************************************************

गिला करें तो कैसे करें

“फ़राज़”

वो लातालुक़ सही मगर इंतिखाब तो मेरा है..!!

*************************************************

वो बाज़ाहिर तो मिला था एक लम्हे को,

“फ़राज़”

उम्र सारी चाहिए उसको भुलाने के लिए..!!

*************************************************

वक़्त-ए-नज़ा है, इस कशमकश में हूँ की जान किसको दूं

“फ़राज़”

वो भी आए बैठे हैं और मौत भी आई बैठी है..!!

*************************************************

दोस्ती अपनी भी असर रखती है,

“फ़राज़”

बहुत याद आएँगे ज़रा भूल कर तो देखो..!!

*************************************************

मुहब्बत में मैंने किया कुछ नहीं लुटा दिया,

“फ़राज़”

उस को पसंद थी रौशनी और मैंने खुद को जला दिया..!!

*************************************************

Ahmad Faraz Shayari

ये वफ़ा उन दिनों की बात है,

“फ़राज़”

जब लोग सच्चे और मकान कच्चे हुआ करते थे..!!

*************************************************

कभी हिम्मत तो कभी हौसले से हार गए,

हम बदनसीब थे जो हर किसी से हार गए,

अजब खेल का मैदान है ये दुनिया,

“फ़राज़”

कि जिसको जीत चुके उसी से हार गए..!!

*************************************************

फुर्सत मिले तो कभी हमें भी याद कर लेना,

“फ़राज़”

बड़ी पुर रौनक होती हैं यादें हम फकीरों की..!!

*************************************************

चाहने वाले मुक़द्दर से मिला करते हैं,

“फ़राज़”

उस ने इस बात को तस्लीम  किया मेरे जाने के बाद..!!

*************************************************

Ahmad Faraz Shayari in hindi

2 Line Shayari in Hindi

Ahmad Faraz Shayari in Hindi

3 Comments

Add a Comment
  1. Pingback: Shayari World
  2. Pingback: Milana Travis

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shayrana Dil © 2016 Frontier Theme